हुआ बेटा मां को थमा दिया बेटी, बिहार के इस सरकारी अस्पताल में हो रही नवजातों की अदला-बदली

बिहार के औरंगाबाद स्थित सदर अस्पताल में पिछले साल 20 नवंबर तथा 30 दिसंबर को प्रसव वार्ड से दो नवजात की हुई अदला-बदली मामले की जांच ही चल रही थी कि फिर से एक लापरवाही का मामला सामने आया है। दरअसल सदर अस्पताल के दलाल सरकारी व्यवस्था को नकारा बनाने में जी-जान से जुटे हैं। वहीं इस पर कर प्रबंधन कान में सरसों का तेल डालकर सो रहा है।

यह मामला सिमरा थाना क्षेत्र के बोधी बगहा से जुड़ा है जहां पर शैलेंद्र कुमार की पत्नी विमला देवी ने 28 जनवरी को सदर अस्पताल के प्रसव वार्ड में एक बेटे को जन्म दिया। बेटे के जन्म की जानकारी ड्यूटी पर रही नर्स तथा अन्य स्वास्थ्य कर्मियों ने परिवार वालों को दी। थोड़ी देर बाद बच्चे को टीका लगाने के बाद परिवार वाले और उसकी मां विमला को हवाले कर दिया गया। उसके बाद उसके परिजन कपड़े में ढक कर बच्चे को घर ले आए जब उन्होंने घर में बच्चे को कपड़े हटाकर देखा तो दंग रह गए।

जब उन्होंने देखा कि लड़का की जगह यह लड़की है उनके परिजन भागे-भागे सदर अस्पताल पहुंचे और तमाम संबंधित अधिकारियों से अदला-बदली मामले की शिकायत की लेकिन किसी ने उनकी एक भी नहीं सुनी। उसके बाद पीड़ित परिवार वालों ने डीएम सौरभ जोरवाल से इस बात की शिकायत की डीएम सौरभ जोरवाल इस मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल सिविल सर्जन डॉ अकरम अली को तलब किया और टीम का गठन कर जांच कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया।

Also Read:  इस वर्ष पांच हजार से अधिक लोगों को मिलेगी सरकारी नौकरी, बिहार कैबिनेट मे लिया गया फैसला

डीएम सौरभ जोरवाल के निर्देश के बाद अस्पताल प्रबंधन इस मामले में तेजी से जांच कर रही है। लेकिन लोगों ने कहा कि अगर इसकी निष्पक्ष जांच की जाए तो एक बड़े रैकेट का खुलासा होगा इसके साथ ही कई चेहरे बेनकाब होंगे

whatsapp channel

google news

 
Share on