नीतीश कुमार को आरजेडी का खुला ऑफर- तेजस्वी को सीएम बनाइए, हम आपको पीएम प्रोजेक्ट करेंगे

अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के 6 विधायक बीजेपी में शामिल होने के बाद बिहार में जनता दल यूनाइटेड और बीजेपी में तनातनी लगातार जारी है। मौका देखते हुए आरजेडी नेता और पूर्व बिहार विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने सोमवार को नीतीश कुमार को एक सलाह दे दी है। उन्होंने कहा कि अगर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एनडीए छोड़ कर आते हैं और तेजस्वी यादव को बिहार का सीएम बनाते हैं तो, विपक्ष उनको 2024 के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री उम्मीदवार के रूप में प्रोजेक्ट करने की कोशिश करेगा।

अरुणाचल प्रदेश की घटना को लेकर बिहार के मुख्य विपक्ष राष्ट्रीय जनता दल दोनों दलों के बीच तनाव के घटनाक्रम पर बारीकी से नजर बनाए हुए हैं। राष्ट्रीय जनता दल नेताओं ने कहा कि भाजपा गठबंधन के बावजूद नीतीश कुमार पर अपना अधिकार जता रही है। राष्ट्रीय जनता दल नीतीश कुमार को अपने पाले में लाने की पूरी कोशिश में लगी हुई है, वह ऐसा मौका हाथ से जाने नहीं देना चाहती।

जदयू के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने भाजपा पर हमलावर रुख जारी रखा है उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि भाजपा गठबंधन धर्म का पालन नहीं कर रही है। इसके अलावा पार्टी बिहार में लव जिहाद कानून के संभावनाओं को भी नकार चुकी है। मामले को गंभीर होते हुए देख भाजपा सोमवार को डैमेज कंट्रोल में जुट गई है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रहे सुशील कुमार मोदी ने कहा कि एनडीए गठबंधन अनब्रेकेबल है।

एक कार्यक्रम के दौरान राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार बिहार मुख्यमंत्री पद के लिए एनडीए के स्वाभाविक विकल्प थे भले ही वह खुद मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहते थे। उन्होंने कहा- नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद के लिए तब जाकर राजी हुए जब उन्हें याद दिलाया गया कि एनडीए में उनके नाम पर वोट मांगे थे।

whatsapp channel

google news

 
Also Read:  बिहार पुलिस भर्ती के शारीरिक दक्षता परीक्षा मे 50 फर्जी अभ्यर्थी पकड़ाये

राष्ट्रीय जनता दल के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा इंतजार करते रहिए और देखते रहिए क्या होता है उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि भाजपा और जेडीयू पानी की गहराई का जायजा ले रहे हैं मगर संकट साफ दिखाई दे रहा है। बिहार प्रतिक्रिया जाने बिना अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू के 6 विधायक भाजपा में शामिल कराने का कोई तुक नहीं बनता। जेडीयू ने मौखिक रूप से इस पर प्रतिक्रिया दी मगर असलियत में कुछ ना कर सके। बीजेपी और जेडीयू में तनातनी के बीच राष्ट्रीय जनता दल यह मौका हाथ से नहीं जाने देना चाहती। नीतीश कुमार को अपने पाले में लाने की आरजेडी की कोशिश जारी है।

Share on