पटना इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन हेड रूपेश को रीतुराज ने मारी थी गोली, जानिए हत्‍या की पूरी कहानी

पटना इंडिगो एयरलाइंस के स्टेशन हेड रूपेश सिंह हत्याकांड का खुलासा हो गया है। पटना के हाई प्रोफाइल केस ने पूरे शहर को हिला कर रख दिया था। पटना पुलिस के मुताबिक रूपेश की हत्या रोडवेज को लेकर हुई थी। इंडिगो एयरलाइंस के अधिकारी रूपेश कुमार की हत्या 12 जनवरी की शाम 7:00 बजे हुई थी। पटना के एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि रूपेश को सभी गोलियां दाहिने तरफ लगी थी। इस मामले में पटना के पुलिस ने आदर्श नगर रोड नंबर 2 निवासी मनोरंजन के बेटे ऋतुराज को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने कहा कि इसी शख्स ने रूपेश को गोलियां मारी थी पटना पुलिस ने कहा कि रुपेश के गिरफ्तारी के बाद उनके तीन साथियों की तलाश जारी है यह तीनों ही पटना के रहने वाले हैं।

SIT से हटकर टेक्निकल टीम भी करती रही जांच

इस हाई प्रोफाइल केस का खुलासा करने के लिए पटना पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी इस मामले में 50 से अधिक लोगों से पूछताछ की गई। वहीं इसकी एक स्पेशल टीम भी बनाई गई। इस मामले में जांच के लिए एक एसआईटी गठित की गई। करीब 600 मोबाइल नंबरों की डिटेल को खंगाला गया। शुरू में कई विवाद सामने आए जैसे टेंपो स्टैंड के विवाद, ठेकेदारी के विवाद जैसे एंगल से पुलिस ने जांच की यहां तक पटना पुलिस ने जमीन के धंधे को लेकर भी छानबीन की।

दो बाइकों पर सवार होकर आए थे चार अपराधी

जब पटना के पुलिस ने इस मामले की जांच की तो CCTV फुटेज से खुलासा हुआ कि रूपेश को गोली मारने के लिए चार अपराधी दो बाइकों पर सवार होकर आए थे। इनमें से एक बाइक TVS Apache थी जबकि दूसरी बाइक Bajaj Pulsar थी। वारदात को अंजाम देने के बाद अपराधी बेली रोड से होते हुए रुकनपुरा तक गए थे इसके बाद पुलिस को इनके भागने का रूट पता नहीं चल सका।

रूट खंगाल से हुए ठिकाने तक पहुंची पुलिस


यह प्रोफाइल केस काफी पेचीदा था पुलिस को इसके लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। रूपेश को गोली मारने के बाद अपराधी बेली रोड से होकर, आर ब्लॉक दीघा रोड होकर दीघा की तरफ जाकर महेश नगर, इंद्रपुरी, राजीव नगर नाला, आशियाना दीघा रोड से दोबारा बेली रोड होते हुए रुकनपुरा तक गए थे। इसके बाद पुलिस की टेक्निकल टीम ने उनके आने का रूट खंगाल ते हुए कुर्जी, कन्हैया नगर तक पहुंची। पुलिस ने बताया कि चारों अपराधी 2:30 बजे इसी जगह से राजेंद्र नगर जाने के लिए निकले थे। सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद पुलिस को पता चला कि इन चारों अपराधियों में से एक अपराधी इस इलाके का रहने वाला है।

whatsapp channel

google news

 

वारदात से कई घंटे पहले ही बंद कर लिया था मोबाइल


CCTV फुटेज देखने के बाद पुलिस ने बताया कि एक लड़का Apache बाइक पर पीछे बैठा था। इसने हत्या के दिन के करीब 1:30 बजे ही अपना मोबाइल बंद कर लिया था इसके बाद इस शख्स का मोबाइल करीब अगले दिन 2:30 बजे बोरिया में थोड़ी देर के लिए ही खुला। इसके बाद इस शख्स का मोबाइल रांची में खुला। अपराधी को यह नहीं पता था कि जिसको उसने गोली मारी वह बहुत बड़े रसूख वाला है। अखबार में खबर छपने के बाद अपराधी रांची फरार हो गया।

जब लगा पुलिस का उस पर ध्यान नहीं तब लौटा घर


अपराधी रांची में आराम से रह रहा था वह रूपेश हत्याकांड की मीडिया कवरेज को बारीकी से देख रहा था। जब उसे लगा कि पुलिस का ध्यान उसके तरफ नहीं है तो वह वापस रांची, पतरातू और देवघर में रहने के बाद अपने घर लौट गया।

सनराइज यूनिवर्सिटी से BA किया है ऋतुराज

आपको बता दें कि अपराधी दिल्ली में भी नौकरी कर चुका है वह काफी दिनों तक दिल्ली में रहा वहां कॉल सेंटर का जॉब करता था। बाद में वह पटना चला आया आपको बता दें कि ऋतुराज ने सनराइज यूनिवर्सिटी से BA किया है। पटना आकर वह गलत धंधों में लग गया। पटना एसएसपी ने बताया कि वह बाइक बाइक का चोरी करता था ऐसा उसने खुद ही पुलिस के सामने कबूल किया है।पटना एसएसपी का कहना है कि ऋतुराज हर 10-15 दिनों पर बाइक बदलता रहता है बाद में पता चला कि वह एक मोटरसाइकिल चोर है। उसका घर आरके नगर में है जहां से उसे गिरफ्तार किया गया आरोपी कन्हाई नजर में किराया पर रूम ले रखा था।

नवंबर महीने में रूपेश की गाड़ी से मरते-मरते बचा था

पकड़े गए शख्स ने बताया कि 28 नवंबर के आसपास लोजपा कार्यालय से एयरपोर्ट जाने वाले रास्ते में रूपेश की गाड़ी से टकराकर हुआ मरते-मरते बचा है। इस बीच उन दोनों की कहासुनी भी हो गई लेकिन चोरी की बाइक पर सवार होने के कारण युवक वहां से झगड़ा टाल देता है। लेकिन अपराधी रूपेश का पीछा कर उसके घर का पता लगाता है इसके बाद उसने रूपेश की हत्या का प्लान बनाया और कई बार रूपेश को मारने की कोशिश की लेकिन वह अलग-अलग वजह से नाकामयाब होता रहा। हर बार उसने स्पॉट रुपेश के Punaichak स्थित अपार्टमेंट के पास ही रखा।

एक अपार्टमेंट के सामने रूपेश को मारी थी गोली

रूपेश को पुनाइचाक में उनके अपार्टमेंट के सामने गोली मारा गया। बाइक सवार अपराधियों ने इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रूपेश को 6 से ज्यादा  गोलियां मारी थीं। पोस्टमार्टम के दौरान रुपेश के शरीर पर 15 से अधिक जख्म के निशान मिले। पुलिस ने बताया कि इस हत्या में मुंगेर निर्मित पिस्टल का इस्तेमाल किया गया था

काफी संबंधित संवेदनशील रहा है मामला

पटना में INDIGO के स्टेशन हेड रूपेश कुमार सिंह की मंगलवार की शाम गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पटना में हुई हत्या की इस घटना ने पूरे प्रदेश को हिलाकर रख दिया था। हत्या कांड के बाद बिहार में सियासी बवाल भी हुआ। विपक्ष ने लॉ एंड ऑर्डर पर सवाल भी खड़े किए और सीधे-सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लिया। कांग्रेस ने मुख्यमंत्री को गृह विभाग छोड़ने तक की सलाह दे डाली थी। इस पर भारतीय जनता पार्टी के कई नेताओं ने भी चिंता जताई थी। आपको बता दें कि भाजपा सांसद विवेक ठाकुर ने इस मामले की CBI जांच की वकालत की थी।

Share on

Leave a Comment