बिहार मे अब सेफ डिलीवरी मोबाइल एप से होगा सुरक्षित प्रसव, दिया जाएगा ऑनलाइन प्रशिक्षण

NHM द्वारा रोहतास जिले के सरकारी अस्पतालों में सुरक्षित प्रसव बढ़ावा देने के लिए सेफ डिलीवरी ऐप बनाया गया है। 9 फरवरी से महिला चिकित्सकों और चिकित्सा कर्मियों को इसके सफल क्रियान्वयन को लेकर ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जाएगा।

NHM बिहार व मैटरनिटी फाउंडेशन के द्वारा सेव डिलीवरी एप की ऑनलाइन ट्रेनिंग दी जाएगी। इस बात की जानकारी ACMO ने दी। इस ट्रेनिंग में जिले के सभी 19 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा, पदाधिकारी, सभी स्टाफ नर्स, प्रबंधक, अनुमंडलीय और सदर अस्पताल के उपाधीक्षक, एएनएम व पीएचसी तथा हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर पर कार्यरत कर्मियों को शामिल किया जाएगा।

इस ऐप के माध्यम से अगर किसी महिला को प्रसव के दौरान कोई परेशानी होती है तो स्टाफ नर्स और एएनएम को APP पर संबंधित परेशानी से जुड़ ऑनलाइन जानकारी मिल जाएगी। इस ऐप में प्रसव के समय होने वाली परेशानियों की सूची और इसके समस्या और निदान की जानकारी और वीडियो उपलब्ध है। जिससे स्वास्थ्य कर्मी वीडियो देखकर प्रसव के समय है उसका निदान कर सके। ग्रामीण क्षेत्र में प्रसव कराने वाली एएनएम और स्टाफ नर्स के लिए सेफ डिलीवरी एप लॉन्च किया है।

आपको बता दें कि सबसे पहले एप्लीकेशन को मोबाइल में डाउनलोड करना पड़ता है इसके बाद पहली बार पंजीकरण करना पड़ता है इसके बाद कर्मचारी ऑफलाइन भी इस ऐप की सुविधा ले सकते हैं।

whatsapp channel

google news

 

सुरक्षित प्रसव को मिलेगा बढ़ावा

ऐसा माना जा रहा है कि इस एप्लीकेशन के आने के बाद स्वास्थ्य कर्मियों को नई-नई जानकारियां मिलेगी और नई-नई तकनीक सीखने का मौका मिलेगा। जिससे प्रसव कक्ष में समय पर इलाज होने से बच्चे की जान बचती है और इससे बेहतर इलाज के साथ-साथ सुरक्षित प्रसव को भी बढ़ावा मिलेगा।

सुरक्षित प्रसव कराना मुख्य उद्देश्य

ACMO ने बताया कि ऐप ऐप ऐप ऐप से हमारा मुख्य उद्देश है कि प्रशिक्षण के साथ-साथ बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराना और प्रसव के दौरान आने वाली चुनौतियां से निपटना एवं प्रसव के बाद बच्चा जच्चा का सही देखभाल भी इसका मुख्य उद्देश है। इस प्रशिक्षण से प्रसव के दौरान आने वाले कई परेशानियां की जानकारी मिलेगी और इसके साथ कैसे और इससे कैसे निपटा जाए इन सब की भी जानकारी मिलेगी। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य है कि अगर किसी महिला को प्रसव के दौरान कोई परेशानी आती है तो उससे जुड़ी सही जानकारी मिले और महिला और बच्चे की अच्छी देखभाल हो।

Share on

Leave a Comment