सोनू सूद के नाम पर रखा अपने फास्ट फूड सेंटर का नाम, अचानक पहुंच सोनू सूद ने किया ये काम

सोनू सूद वो अभिनेता जिन्होंने लॉकडाउन में लाखों लोगों की मदद की, इस अभिनेता ने पिछड़ों को परिवार से मिलाया। लॉकडाउन के दौरान सोनू सूद लोगों के लिए मसीहा बनकर आए ऐसे में उन्होंने शुक्रवार को एक फैन के फूड स्टॉल पर पहुंचकर अचानक से दे दिया सरप्राइज दे दिया।

सड़क किनारे लगाते हैं फूड स्टॉल

सोनू सूद के इस फैन का नाम अनिल है, जो हैदराबाद में सड़क किनारे फूड स्टॉल चलाते हैं। अनिल ने अपने स्टॉल का नाम सोनू सूद के नाम पर रखा है। हैदराबाद के बेगमपेट में सड़क किनारे फूड स्टॉल चलाने वाले अनिल ने अपने इस फूड सेंटर का नाम ‘लक्ष्मी सोनू सूद फास्ट फूड सेंटर’ रखा है।

सोनू सूद ने खाने का लिया स्वाद

अनिल द्वारा बनाए गए तले हुए चावल का स्वाद अभिनेता सोनू सूद ने चखा। और उनकी इस प्रयास की सराहना की साथ ही सोनू सूद ने बिजनेस में उन्हें उच्च स्तर तक पहुंचने के लिए शुभकामनाएं दीं।

सिद्दीपेट गांव में सोनू सूद की मूर्ति की हुई स्थापना

अभिनेता सोनू सूद ने कहा, “मैं यह देखकर बहुत खुश हूं। मुझे तला हुआ चावल बेहद ही पसंद है और मुझे विश्वास है कि यहां हैदराबाद का सबसे अच्छा फास्ट फूड बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि “मैं अनिल की सफलता की कामना करता हूं” वे जल्द ही सिद्दीपेट जाएंगे जहां ग्रामीणों ने उनकी प्रतिमा स्थापित की है। आपको बता दूं कि सिद्दीपेट गांव में लोगों ने उनकी लॉकडाउन के दौरान किए गए कामों को लेकर उनकी मूर्ति की स्थापना की है।

whatsapp channel

google news

 

जानकारी के मुताबिक जब सोनू सूद अचानक फूड सेंटर पर पहुंचे तो अनिल उन्हें देखकर खुशी से झूम उठे। अनिल ने कहा कि मुझे उम्मीद नहीं थी कि अभिनेता सोनू सूद उनके स्टाल पर आ जाएंगे। “मैं बहुत खुश हूं मेरा काम उनके नाम के साथ अच्छा चल रहा है” और उनको उनके यहां आने से काम और भी बढ़ेगा। सोनू सूद का यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है। अपने फैन के प्रति सोनू के इस प्यार की हर कोई तारीफ कर रहा है।

Also Read:  निकाह से पहले सना-सईद में था भाई-बहन वाला रिशता, शादी के लिए जोड़ने पड़े थे हाथ-पैर

फिल्मों में विलेन का किरदार निभाने वाले असल जिंदगी में बड़े नायक

फिल्मों में एक विलेन का किरदार निभाने वाले सोनू सूद असल जीवन में किसी बड़े ‘नायक’ के रूप में उभरे हैं। कोरोना काल में मसीहा बनकर उन्होंने हज़ारों गरीब प्रवासी मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाने का काम किया था। ज़रूरतमंदों के लिए वो अभी भी उम्मीद बनकर सामने आते रहते हैं। उनका यही व्यवहार उन्हें रियल लाइफ का हीरो बनाता है। विश्व स्तर पर उनके काम को सराहा जा चुका है।

Share on