KBC 2020: ब‍िहार की बेटी दीक्षा आज बैठेंगी हॉट सीट पर,आइएएस बनने का है सपना

जब बिहार के एक छोटे से गांव की छात्रा कौन बनेगा करोड़पति में अमित अमिताभ बच्चन के साथ जब मंच शेयर करेगी तो यह अपने आप में बहुत बड़ी बात हो जाती है. बिहार के मधुबनी जिले के खजौली प्रखंड के सुक्की की ग्राम निवासी मनीष कुमार मिश्र व शिक्षिका सुप्रीता कुमारी की सुपुत्री दीक्षा कुमारी सबसे चर्चित टेलीविजन शो कौन बनेगा करोड़पति के हॉट सीट तक पहुंचने में सफल हो गई है. इस एपिसोड का प्रसारण आज और कल शाम को किया जाएगा. एक छोटे से गांव और सरकारी स्कूल से शिक्षा हासिल करने वाली दीक्षा की उपलब्धि से पूरे गांव के लोगों में हर्ष है.

केबीसी की हॉट सीट के लिए दीक्षा के चयन की चर्चा गांव व आसपास में जोरशोर से हो रही है। खासकर सदी के महानायक अम‍िताभ बच्‍चन से भेंट का अवसर म‍िलने को लेकर सभी उत्‍साह‍ित हैं।  

कौन बनेगा करोड़पति में इस सप्ताह स्टूडेंट स्पेशल वीक चल रहा है इसके तहत बच्चों को खासतौर पर मौका दिया जा रहा है. इस शो को अमिताभ बच्चन होस्ट कर रहे हैं इस खेल का अमिताभ बच्चन के साथ बच्चे पूरा आनंद ले रहे हैं. आपको बता दें कि फास्टेस्ट फिंगर फर्स्ट में सर्वोत्कृष्ट प्रदर्शन करने के बाद दीक्षा ने हॉट सीट हासिल करने में सफलता प्राप्त की है अब सभी को इंतजार है कि दीक्षा खेल में किस पड़ा तक पहुंच पाती है.

Also Read:  पटना से गया जाना होगा आसान, राष्ट्रीय राजमार्ग-83 पर पांच जगहों पर बनेंगे रेलवे ओवरब्रिज, फर्राटा भरेगी गाड़ियां

दीक्षा के पिता मनीष कुमार मिश्र किसान हैं और उनकी मां सुप्रीता कुमारी शिक्षिका हैं, दीक्षा दो भाई बहनों में छोटी हैं उनके बड़े भाई जवाहर नवोदय विद्यालय के छात्र हैं. दोनों ने इसी वर्ष मार्च 2020 में 10वीं परीक्षा पास की है दीक्षा ने अपनी शुरुआती पढ़ाई गांव के ही सरकारी विद्यालय में अपनी माता की देखरेख में की है. इसके बाद दीक्षा का चयन नवोदय स्कूल के लिए हुआ.

whatsapp channel

google news

 

ऑनलाइन परीक्षा के बाद मिली सफलता दीक्षा अपनी प्रारंभिक पढ़ाई गांव के सरकारी स्कूल से कि अब वह जवाहर नवोदय विद्यालय मधुबनी की आठवीं की छात्रा है. वह कौन बनेगा करोड़पति में अपने चयन को लेकर काफी उत्साहित हैं. आपको बता दें कि राष्ट्रीय स्तर पर कार्य करने वाली एक संस्था शिक्षा संवर्द्धन के माध्यम से लगातार 20 दिनों तक हुई ऑनलाइन परीक्षा के पश्चात मेधा के आधार पर डेढ़ लाख बच्चों में से 8 बच्चों का चयन किया गया था इनमें दीक्षा ने भी सफलता हासिल की.

Share on