Monday, February 6, 2023
spot_img

फिर से विश्व गुरु बनने की राह पर भारत, आधा दर्जन देशों ने मांगी भारत में तैयार स्वदेशी वैक्सीन

भारत समेत कई देशों में कोरोना के टीकाकरण की शुरुआत हो चुकी है. लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि इस महामारी से जंग के दौरान भारत दुनिया में बड़ी उम्मीद बनकर सामने आया है. कई देश भारत में बनी कोरोना वैक्सीन की मांग कर रही है. इसी बीच भारत ने मंगलवार को ऐलान किया कि बुधवार से 6 देशों को कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति शुरू कर दी जाएगी. गौरतलब है कि भारत दुनिया के सबसे बड़ा दवा उत्पादक देशों में से एक है और कोरोना वैक्सीन खरीदने के लिए काफी देशों ने संपर्क किया है.

whatsapp

भारत अपने पड़ोसी धर्म निभाते हुए बुधवार से भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यांमा और सेशेल्स को कोविड-19 के टीके की आपूर्ति करेगा.विदेश मंत्रालय ने कहा कि पुणे स्थित सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के द्वारा तैयार की गई Covishield सबसे पहले मालदीव को दी जाएगी. जानकारी के अनुसार मालदीव को एक लाख डोज दिए जाएंगे. मालदीव सरकार ने भारत की तरह सबसे पहले कोरोना वॉरियर्स को टीका लगाए जाने की योजना बनाई है. इसमें स्वास्थ्य कर्मी, पुलिसकर्मी सबसे पहले है.

सिर्फ मालदीव ही नहीं बल्कि कई अन्य देश भी भारत से वैक्सीन की मांग कर रहे हैं. इनमें भूटान, म्यामार, नेपाल बांग्लादेश और Seychelles भी है जिन्होंने Covishield वैक्सीन की मांग की है. आपको बता दें कि बंगलादेश को को भी Covishield की 20 लाख डोज गुरुवार को भेजी जाएगी. साथ ही कई अन्य देशों ने भी वैक्सीन के जल्दी सप्लाई शुरू करने के लिए भारत से बातचीत की है. इनमें अफगानिस्तान, मॉरीशस, श्रीलंका जैसे पड़ोसी देश आगे हैं. फिलहाल पाकिस्तान ने अभी तक संपर्क नहीं किया है.

वही भूटान के प्रधानमंत्री अपने देश की जनता को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए भारत से वैक्सीन का अनुरोध किया है. भारत सरकार ने भूटान को जल्द ही वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए कहा है. वहीं बांग्लादेश में कोरोना संक्रमण से मौत की संख्या बढ़ती जा रही है इसी कड़ी में वहां के विदेश मंत्रालय ने बताया कि 21 जनवरी को भारत से 20 लाख कोरोना वैक्सीन का अनमोल गिफ्ट मिलने वाला है.

whatsapp-group

दक्षिण अफ्रीका भी कर रहा मांग

भारत के पड़ोसी देशों के साथ-साथ दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने भी वैक्सीन की मांग की है. दक्षिण अफ्रीका की सरकार ने कहा कि फरवरी के पहले हफ्ते में भारत से वैक्सीन मिलने की पूरी-पूरी उम्मीद है. वैक्सीन मिलने के बाद दक्षिण अफ्रीका के 10 फ़ीसदी आबादी को टीकाकरण का काम शुरू हो जाएगा.वहीं ब्राजील सरकार ने वैक्सीन के लिए विमान भी तैयार कर ली है. इसके साथ ही कंबोडिया ने भारत से वैक्सीन की मांग की है.

केंद्र सरकार के द्वारा हरी झंडी मिलने के बाद भारत में टीकाकरण का काम शुरू हो चुका है. केंद्र सरकार ने दो वैक्सीन को मंजूरी दे दी है. इनमें पुणे स्थित सिरम इंस्टीट्यूट का Covishield और हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक के द्वारा बनाया गया कोवैक्सीन (Covaxin) को इस्तेमाल की मंजूरी मिली है.विदेश मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार भारत सरकार पहले देश में होने वाली खपत पर ध्यान दे रहा है. उसके बाद ही पड़ोसी तथा अन्य देशों को वैक्सीन सप्लाई की जाएगी.

Stay Connected

267,512FansLike
1,200FollowersFollow
1,000FollowersFollow
https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIuXogswzqG6Aw?hl=hi&gl=IN&ceid=IN%3Ahi

Latest Articles