कभी बॉलीवुड फिल्‍म मे किया था काम,आज रोटी के लिए पटना की सड़कों पर बेच रहे अखबार

बॉलीवुड के निर्माता प्रकाश झा की 80 के दशक में एक चर्चित फिल्म आई थी. इस फिल्म में समाज के कमजोर लोगों के शोषण की कहानी बखूबी दिखाई गई थी. फिल्म का नाम था Damul इस फिल्म में बुधवा (बंधुआ) मजदूर का रोल करने वाले पटना शहर के रंगकर्मी ओम कपूर आजकल गरीबी में जिंदगी बिताने को मजबूर है. 1984 में बॉलीवुड फिल्म में किरदार निभाने वाले इस कलाकार को आज रोटी और अखबार बेचकर जीवन का गुजारा गुजारा करना पड़ रहा है. मलाल तो इस बात का है कि सरकार से इन्हें कोई गुजारा भत्ता भी नहीं मिल रहा जिससे उनके समेत गरीबी का दंश झेल रहे कलाकारों की जिंदगी चलती रहे.

स्नातक और एलएलबी कर चुके हैं कपूर

दमुल फिल्म में बंधुआ मजदूर का किरदार निभाने के बाद लोकप्रियता हासिल कर ली थी. उसके बाद ओम कपूर को रंगमंच से फिल्मी दुनिया में एक नई पहचान मिली थी. लेकिन यह ज्यादा दिनों तक नहीं टिक सके. स्नातक और एलएलबी करने के बाद इस कलाकार के जेहन में संघर्षों के बाद भी रंगमंच जिंदा है. ओम कपूर ने साल 1985 के दौरान कालाकुंज नाटक संस्था बनाई थी, जो कि पैसों के अभाव में आज Ventilator पर दम तोड़ता नजर आ रहा है. पिछले साल आधी रात का सवेरा और लोहा सिंह नाटकों का मंचन कर नए कलाकारों को मौका दिया है. ओम कपूर अपनी पॉकेट मनी बचाकर नाटकों का मंचन करने में लगे हैं.

Also Read:  सात बच्चियों के पास न है रहने का घर, ना ही खाने का खाना, वृद्ध दादा दादी है बस पालनहार

रंगमंच ने दिया बढ़ने का मौका

वैसे तो ओम कपूर बिहार के छपरा के बड़का गांव के रहने वाले हैं. लेकिन साल 1965 में उनके पिता गांव से बिहार की राजधानी पटना आ गए थे. उनके मोहल्ले में स्वर्गीय अनिल मुखर्जी जो बिहार आर्ट थियेटर के संस्थापक थे उनका आवास था. स्कूल की शिक्षा प्राप्त करने के बाद उन्हें पटना में मुखर्जी का साथ मिला. साल 1979 के दौरान अनिल कुमार मुखर्जी के सहयोग से अभिनय में निपुण होने के बाद ओम कपूर नाटकों में काम करना शुरू किया. ओम कपूर ने कालिदास रंगालय में ‘Thank You Mister Glad’ नाटक में कई दी की भूमिका निभाकर दर्शकों का दिल जीत लिया था.

1984 में हुए निर्देशक प्रकाश झा से मुलाकात

साल 1984 के दौरान फिल्म निर्देशक प्रकाश झा से ओम कपूर की मुलाकात होटल प्रेसिडेंट में हुई थी. Prakash Jha उन दिनों फिल्म दमुल बनाने को लेकर पटना के रंग कर्मियों से मिल रहे थे. 55 वर्षीय ओम कपूर को अवसर दिया. फिल्म की शूटिंग मोतिहारी के छपरा में 1 महीने हुई थी. इस फिल्म में अभिनेता अन्नू कपूर, अभिनेत्री दीप्ति नवल और एनएसडीके मनोहर सिंह के साथ काम करने का मौका मिला.

whatsapp channel

google news

 
Share on