Thursday, June 1, 2023

बौद्ध भिक्षु अपने मठ को बनाया ‘सापों का घर’, कोबड़ा, अजगर, वाइपर को मानते अपना बच्चा

आमतौर पर लोगों को पालतू जानवरों से प्यार होता है लेकिन क्या कभी ये सुना है कि किसी को अजगर और कोबरा जैसे सांपों से प्यार है. जी हां यह सच है. म्यांमार के यंगून में बौद्ध भिक्षु विलेथा सिकटा ने ठुका टेटो मठ में अजगर, वाइपर और कोबरा सहित सांपों के लिए एक आश्रय स्थल बनाया है.

सांप मेरे लिए बच्चे की तरह है

69 वर्षीय भिक्षु ने ऐसा इन जहरीले सांपों को बचाने के लिए किया है ताकि इन्हें कोई मार ना सके या फिर काला बाजार में बेच ना दे. सांपों को शरण देने की शुरूआत उन्होंने पांच साल पहले की थी. रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक वहां के निवासियों के अलावा, सरकारी एजेंसियां ​​भी भिक्षुओं के पकड़े सांपों को बाद में उनसे लेकर जंगल में छोड़ देती है. अपने भगवा गमछा का उपयोग करके सांपों की सफाई करने वाले विलेथा ने कहा कि वह प्राकृतिक पारिस्थितिक चक्र की रक्षा कर रहे हैं.

चीन और थाइलैंड में होती है सांपों की तस्‍करी

whatsapp-group

दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों में वन्यजीवों के अवैध व्यापार का म्यांमार मुख्य केंद्र बन गया है वन्यजीवों के संरक्षण के लिए काम करने वाले लोगों का कहना है कि मार्च में तस्करी करके सांप आसपास के देशों थाईलैंड और चीन ले जाए जाते हैं। दुनिया के कई देशों में बेहद कम हमलावर समझे जाने वाले बर्मा एमएमआर को अजगर को सुरक्षित घोषित किया गया है.

google news

दान में जो मिलता है उसी से होता है सांपों का भोजन

उन्होंने कहा कि आज जरूरत है कि इन सांपों को जल्द से जल्द जंगल में छोड़ दिया जाए। बलिथा ने कहा कि सांपों को खिलाने के लिए करीब 300 Dollar दान मिल जाता है। उन्होंने कहा सांपों को उनके मठ में तभी तक रखा जाता है जब तक यह महसूस किया जाता है कि ऐसा करने की जरूरत है जब इन्हें लगता है कि यह जंगल में जाने के लिए तैयार हो जाते हैं तब उन्हें छोड़ दिया जाता है। नेशनल पार्क में छोड़े जाने पर उन्होंने खुशी जताई लेकिन साथ ही उन्हें यह डर सता रहा था कि इसे फिर से कोई पकड़ ना ले जाए।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,790FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles