स्टेशन पर कुली का काम कर उसी स्टेशन के Free Wifi से पढ़ अधिकारी बन गए श्रीनाथ

वो कहते है ना कि आपके आज के किये गए काम आपके आने वाले कल को दर्शाते है। जो लोग आज जी-तोड़ मेहनत करते है उन्हें आने वाले कल में सफलता प्राप्त करने से कोई नहीं रोक सकता है। यदि आज आप अपनी मेहनत, विश्वास और मजबूत पर कायम है तो आप मुश्किलें से भरी छोटी बड़ी लहरों को पार कर सकते हैं. इसी का जीता जागता उदाहरण है केरल का एक लड़का जिसने ना सिर्फ अपने मुश्किलों को पार किया बल्कि आज वह सबके लिए मिसाल बना हुआ है। स्टेशन पर कुली का काम करते-करते फ्री वाई-फाई की सेवा और लाइट की रोशनी के सहारे पढ़कर अपना मुकाम हासिल किया।

पास के स्टेशन पर करते थे कुली का काम

हम बात कर रहे है ‌केरल के रहने वाले श्रीनाथ कि जिन्होंने कड़ी मेहनत से अपने सपने को पूरा किया हैं. बहुत ही गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले श्रीनाथ बहुत ही गरीबी में पले-बढ़े हैं और जैसे-तैसे कर उन्होंने 10वीं तक की पढ़ाई पूरी की। श्रीनाथ केरल के मन्नार के रहने वाले हैं और एर्नाकुलम उनका सबसे करीबी रेलवे स्टेशन है। आपको बता दें कि स्टेशन पर फ्री वाई-फाई ‌कि सुविधा और लाइट से उन्होंने अपनी सपनों की उड़ान भरी. श्रीनाथ का कहना है, ” मुफ्त वाई-फाई सुविधा ने उनके लिए सफलता के द्वार खोल दिए.”

फ्री wi fi का उठाया लाभ

साल 2016 में डिजिटल इंडिया के तहत मोदी सरकार ने रेलवे स्टेशनों पर वाई-फाई की सुविधा शुरू करवाई थी और साथ ही इस सुविधा को फ्री रखा गया है ताकि लोगों को इंटरनेट फेल कि समस्याओं से जूझना ना पड़े. श्रीनाथ ने इसके बारे में बताते हुए कहा, “स्टेशन पर उपलब्ध वाई-फाई सेवा ने उनके लिए अवसरों के नए द्वार खोले। इससे उन्हें अपने अभ्यास प्रश्नपत्रों को सुलझाने एवं परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन इत्यादि करने में तो मदद मिली ही, साथ ही किताबें खरीदने पर होने वाला उनका एक बड़ा खर्च भी बच गया।

मोटिवेशनल वीडियो देखने से हुई पढ़ने की इच्छा

‌श्रीनाथ के मन में बचपन से ही पढ़ाई करने कि बहुत इच्छा थी लेकिन पैसों की कमी के कारण वह अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाए। जब श्रीनाथ ने रेलवे स्टेशन पर फ्री वाई-फाई और लाइट कि सुविधा के बारे में जाना तो उनके मन में एक बार फिर पढ़ने की चाहत आई. जिसके बाद से ही श्रीनाथ फ्री समय में वाई-फाई के सहयोग से मोबाइल पर हेडफोन लगाकर मोटिवेशनल वीडियो देखने लगे और उसके बाद से उनकी रुचि पढ़ाई कि ओर और बढ़ने लगी. श्रीनाथ ने कड़ी मेहनत कि और अंत में वे कामयाब हुए। इन सब में सबसे ख़ास बात यह थी कि श्रीनाथ ने अपनी पढाई पूरी करने के लिए किसी भी किताब की मदद नही ली और सिर्फ वाई-फाई की मदद से पढ़ाई की।

whatsapp channel

google news

 

यहाँ हुआ चयन

ऐसा नहीं था कि श्रीनाथ ने पहली बार में ही सफलता हासिल कर ली थी. करीब दो बार यूपीएससी के परीक्षा में श्रीनाथ असफल हो गए थे लेकिन इस असफलता के बाद भी उन्होंने हार नहीं मानी . श्रीनाथ ने फिर से परीक्षा देने का फैसला किया। उन्हें अपनी मेहनत पर पूरा भरोसा था। फिर वो मौका आया जब श्रीनाथ को अपने सब्र और मेहनत का फल मिला. साल 2018 में श्रीनाथ ने केरला पब्लिक सर्विस कमिशन KPSC का एग्जाम पास कर लिया ।

Share on

Leave a Comment