बिहार के इस गाँव के लोगो ने कुएं में गिरे साढ़ को दिया जीवनदान, 4 दिन से हालत थी बदहाल

डेस्क : वेदों में ऋषि-महाऋषियों ने अनेकों मंत्र दिए हैं जिससे उन्होंने बार-बार यह समझाया है कि इंसान सर्वश्रेष्ठ योनियों में जन्म लेता है। इसलिए समाज में अनेकों ऐसे उदाहरण देखने को मिलते हैं जहां पर इंसान अपनी सूझबूझ की मदद से अनेकों ऐसे जीवो की मदद करता है जो जीव मदद करने के हकदार होते हैं। गांव देहात के इलाके में जानवर खेतों में घुसकर फसल बर्बाद कर देते हैं, जिनमें से एक साढ़ होता है। साढ़ को देखकर लोग दूर भागते हैं और ज्यादातर साढ़ लोगों की फसलें बर्बाद कर देते हैं। साढ़ के आक्रामक रवैये के चक्कर में लोग अब उन्हें नहीं पालते।

वही हमें बिहार के जमुई इलाके में एक ऐसा नजारा देखने को मिला है जहां पर लोगों ने साढ़ के प्रति खूब प्यार दिखाया। जमुई के पोछा पंचायत के अंदर आने वाला दुम्मा गांव के एक कुएं में 4 दिन से एक साढ़ फंसा हुआ था। वह भूख प्यास के मारे बदहाल हो रखा था। इस साढ़ की मदद करने के लिए ग्रामीणों ने खूब मेहनत और मशक्कत की जिसके बाद वह साढ़ को बाहर निकालने में कामयाब हो गए। जब कुएं में गिरे साढ़ को आसपास के लोगों ने देखा तो साढ़ को खिलाने के लिए कुएं में पुआल गिरा दिया।

Also Read:  इस वजह मनाया जाता है छठ पर्व, बिहार सहित इन राज्यों में होती है सार्वजनिक छुट्टी

बता दें कि साढ़ को पिछले 4 दिनों से वह लगातार पुआल दे रहे थे ऐसे में साढ़ पुआल खाकर जिंदा बचा रहा। जब यह बात गाँव में फैलने लगी तो सामाजिक कार्यकर्ता भी घटनास्थल पर पहुंचे और उन्होंने एकजुट होकर 7 घंटे के अंदर साढ़ को बाहर निकाल दिया। उन्होंने साढ़ को बाहर निकालने के लिए रस्सी का प्रयोग किया। कुआं काफी ज्यादा सूखा हुआ था, जिसके कारण जब साढ़ उस में गिरा तो उसको काफी चोटे आई। गाँव वालों ने मिलकर साढ़ की चोट भी ठीक करवाई।

Share on