मिस्ड कॉल से हुई प्रेम कहानी की शुरुआत, दिव्यांगता भी नहीं आया प्यार के आड़े, मंदिर में लिए सात फेरे

जैसा की कहा गया है की अगर प्यार सच्चा हो तो उसे पाने के लिए लोग कुछ भी करने को राजी रहते हैं। एक ऐसी ही खबर मैनपुरी से आई है। आगरा की रहने वाली प्रेमिका ने अपने दिव्यांग प्रेमी से मिलने के लिए 120 किलोमीटर का सफर तय करते हुए मैनपुरी पहुंच गई। उनदोनो के बीच 2 महीने से बातचीत हो रही थी फिर क्या था दोनो को प्यार हो गया और आखिरकार बुधवार को दोनों ने माता शीतला देवी मंदिर में सात फेरे लिए और साथ जीने मरने की कसमें खाई।

जब इस बात की भनक युवक के परिवार को लगी तो उन्होंने लड़की को अपनाने से साफ इनकार कर दिया। फिर मजबूरन दोनो को पुलिस की शरण में जाना पड़ा। दोनो ने कोतवाली थाना में जाकर अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई।

युवक का नाम राकेश मिश्रा है जो की कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला दक्षिणी छपट्टी से है , वो दोनो पैर से विकलांग हैं। वह ई रिक्शा पर परचून का सामान बेचकर अपना जीवन यापन करता है। इसी क्रम में उसकी जीवन में आगरा के भगवान टॉकीज क्षेत्र की रहने वाली मानसी चौहान आई । बाद में दोनो में फोन पर बातचीत होने लगी। मानसी अपने पिता से काफी परेशान रहती थी और इस वजह से उसने राकेश के सामने शादी का प्रपोजल दिया।

जब राकेश को यह लगा की जब बात शादी तक पहुंच गई तब उन्हे अपने बारे में बता देना चाहिए की वो दोनो पैरो से विकलांग हैं। जब राकेश ने यह बात मानसी से कही तब उनको काफी आश्चर्य हुआ लेकिन मानसी ने कहा की उसे इस बात से कुछ फर्क नहीं पड़ता की तुम दिव्यांग हो या नही ये हमारा प्यार सच्चा है और मैं तुम से ही शादी करूंगी , मैं तुम्हे अपना जीवनसाथी स्वीकार कर चुकी हूं।

whatsapp channel

google news

 

बुधवार की सुबह मानसी राकेश के घर पहुंच गई जहां बाद में दोनो ने पास के ही मंदिर में जाकर शादी की। जिसके बाद राकेश के परिवार ने घर में जगह देने से मना कर दिया। तब जाकर दोनो ने जैसे तैसे किराए के कमरे में रात गुजारी । सुबह दोनो थाने पहुंचे और अपनी जान का खतरा बताकर सुरक्षा की मांग की। उनका कहना था की उनके परिवार वाले उन्हे जिंदा नहीं छोड़ेंगे ।

राकेश ने पूरा मामला पुलिस को समझाते हुए कहा की जनवरी महीने में अचानक उसे एक मिस्ड कॉल आया था जब उसने कॉल बैक किया तो एक लड़की की आवाज सुनाई दी। राकेश ने फोन पर लड़की की आवाज को अच्छा बताया । इस तरह दोनो की दोस्ती हो गई और दोनो फोन पर ही खूब बातें करने लगे। उनकी दोस्ती का दो महीना भी नही हुआ की दोनो में शादी रचा ली।

सीओ सिटी अभय नारायण राय ने मीडिया से बात करते हुआ कहा की दिव्यांग युवक और आगरा की युवती का मामला उनके संज्ञान में आया है । इस मामले में अधिक जानकारी जुटाई जा रही है। उन्होंने यह भी कहा की इस मामले में विधिसम्मत करवाई की जाएगी ।

Share on

Leave a Comment