महागठबंधन ने मधेपुरा के इस सीट से जेडीयू के खिलाफ शरद यादव की बेटी को दिया टीकट !

महागठबंधन ने एक बड़ा चाल चलते हुए जदयू के पूर्व वरिष्ठ नेता और सांसद शरद यादव की बेटी को जदयू के खिलाफ  अपना उम्मीदवार घोषित किया है। मधेपुरा के बिहारीगंज विधानसभा सीट से महागठबंधन ने शरद यादव की बेटी सुभासिनी यादव को कांग्रेस की टिकट से अपना उम्मीदवार बनाया है।

बता देंगे बिहारीगंज विधानसभा सीट जदयू के खाते में गई है और जदयू ने यहां से निरंजन मेहता को अपना प्रत्याशी बनाया है। इस सीट पर शरद यादव की बेटी सुभाषिनी यादव के आ जाने से मुकाबला काफी दिलचस्प हो गया है, क्योंकि इन दो बड़े चेहरों के अलावा जाप की तरफ से राजद के पूर्व प्रत्याशी प्रभास को पप्पू यादव ने अपना उम्मीदवार बनाया हैइसके अलावे वहीं से लोजपा ने भाजपा के पूर्व प्रत्याशी और पूर्व मंत्री रेणु कुशवाहा के पति विजय सिंह कुशवाहा को अपनी पार्टी से उम्मीदवार बनाया है।

पिता शरद यादव की कर्मभूमि रही है मधेपुरा

शरद यादव की बेटी सुभासिनी यादव यहा से नामांकन करने पर कहा कि मैं हमेशा से अपने पिताजी के साथ मधेपुरा चुनाव प्रचार के लिए आती रहती थी इसलिए मैं भी अब यहां से चुनाव लड़ रही हूँ। इस बार मैं खुद अपने लिए बिहारीगंज विधानसभा के लोगों से खुद के लिए वोट मांगूगी। आगे उन्होंने कहा कि मेरे पिताजी शरद यादव की कर्मभूमि मधेपुरा रही है। यहां की जनता जरूर मुझे अपना आशीर्वाद देगी। मैं भी यहां पिछले 30 साल से अपना समय बिताया हूं इसलिए यहां की जनता जरूर मुझे सेवा का मौका देगी। वह जरूर बिहारगंज की इस बेटी पर अपना हाथ रखेगी।

Also Read:  बिहार को मिलने जा रहा है दो नए मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, एमबीबीएस छात्रों का होगा एडमिशन, मरीजों को होगी सहूलियत

युवाओं के रोजगार को लेकर काफी चिंतित

सुभाष सिंह यादव अपनी जनसभाओं में युवाओं के रोजगार को लेकर काफी बात करती है, उनका कहना है कि बिना युवाओं के भविष्य को संभाले इस राज्य का विकास नहीं हो सकता है और हमारे नेता तेजस्वी यादव जी ने युवाओं को 10 लाख नौकरिया देने का वादा किया है। इससे प्रदेश का काफी विकास होगा।

whatsapp channel

google news

 

गौरमतलब है कि सुभाषिनी के चुनाव प्रचार के लिए उनके पिताजी शरद यादव नहीं आएंगे वह अभी काफी बीमार चल रहे हैं परंतु उनके ससुर बलवीर सिंह और भाई शांतनु के अलावा पति राज कमल जी उनके हमेशा साथ रहकर प्रचार कर रहे हैं। सुभासिनी यादव ने 19 अक्टूबर को नामांकन किया है इसके बाद उन्होंने कई जनसभाओं को संबोधित किया है।

Share on