Monday, January 30, 2023
spot_img

IAS अधिकारी ने कायम की सादगी की मिसाल, मात्र 18 हजार में कराई बेटे की शादी

हमारे देश में शादियों का मतलब त्योहार माना जाता है। शादी के शुभ अवसर पर परिवार के लोग एक साथ एक छत के नीचे इक्कठा होते है और पूरे धूम धाम के साथ शादियों की रश्मों को एन्जॉय करते है। शादी बियाह में किसी भी तरह की कोई भी कमी ना हो इसके लिए लोग हर प्रयास करते है और खूब पैसे खर्च करते है। उनका मानना है कि शादी सिर्फ एक बार होती है तो ऐसे में क्यों ना इसे बड़े स्तर पर आयोजित किया जाए जिसके कारण लोग लाखों रुपये खर्च कर देते है। हालांकि कुछ लोग ऐसे भी होते है जिनकी अच्छी खासी आमदानी होने के बाद भी वह शादियों में ज्यादा खर्च करना सही नही समझते है और ऐसा ही कुछ किया है एक आईएएस अधिकारी ने जिन्होंने अपने बेटे की शादी में मात्र 18000 खर्च किये।

whatsapp

बसंत कुमार जो कि पेशे से एक आईएएस अधिकारी हैं जिनके बेटे की शादी का कुल खर्च मात्र 36000 रुपये ही आया। इस शादी में लड़की और लड़का दोनो तरफ के परिवारों ने केवल 18-18 रुपयें ही खर्च किये है शादी में दोनों तरफ के परिवार शामिल थे और साथ ही उनके दोपहर के भोजन का भी इंतजाम था। हालांकि इन बातों पर कई लोगों को भरोसा नही हुआ होगा पर यही हकीकत है। अपने बेटे की शादी के वक़्त बसन्त कुमार विशाखापत्तनम मेट्रोपालिटन रीजन डेवलेपमेंट अथॉरिटी के पद पर काम करते थे।

बेटी के शादी में भी किया कम खर्च :-

10 फरवरी 2019 को बेटे की शादी के बाद वसंत कुमार ने अपनी बिटिया की भी शादी की जिसमे उन्होंने कुल 16100 रुपये ही खर्च किये थे। इतने कम पैसों में बेटे और बेटी की शादी कराने वाले वसंत ने मेहमानों से गुलदस्ता और उपहार नही देने का अनुरोध किया था। उनका मानना है कि आशीर्वाद से बड़ा कोई तोहफा नही होता और इसलिए उन्होंने शादी के निमंत्रण कार्ड पर लिखवाया था कि केवल आशीर्वाद दें। कोई गुलदस्ता-कोई उपहार नही।

बड़ी उपलब्धियां की हासिल :-

आपको बतादें की साल 2012 में आईएएस कैडर में बसंत कुमार को पदोन्नत किया गया था। हालांकि इससे पहले उन्होंने अधिकारी और राज्यपाल नरसिम्हन के संयुक्त सचिव के रूप में भी काम किया था।

whatsapp-group

Stay Connected

267,512FansLike
1,200FollowersFollow
1,000FollowersFollow
https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIuXogswzqG6Aw?hl=hi&gl=IN&ceid=IN%3Ahi

Latest Articles