Big Breaking: 1 मार्च से बिहार में स्कूल जा सकेंगे ‘पहली से पांचवीं क्लास’ तक के बच्चे

कोरोना महामारी के कारण लंबे समय से बंद विद्यालयों को अब नियम के अनुसार खोला जा रहा है। इस बाबत इस बार कक्षा 1 से 5 को खोलने का निर्णय लिया गया है। स्कूल खुलने का इंतजार कर रहे बच्चे इस फैसले का इंतजार कर रहे थे। बिहार सरकार ने कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए स्कूल खोलने की इजाजत दी है। हालांकि कक्षाओं में 50% बच्चों की उपस्थिति का ही इजाजत मिला है ।

मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कहा कि कोरोना का गाइडलाइंस का पालन करते हुए कक्षा 1 से 5 की कक्षाएं शुरू की जा रही है। कक्षा में 50% बच्चों की ही अनुमति रहेगी। लेकिन शिक्षकों की उपस्थिति शत प्रतिशत रहेगी। कक्षा संचालन से पहले सभी कक्षाओं को सनेटाइज करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही कहा गया कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दो बच्चों के बीच पर 6 फीट की दूरी होगी ।

साथ ही सभी विद्यालयों को हर बच्चे को 2 2 मास्क उपलब्ध करवाने का निर्देश दिया गया है। यह आदेश सभी निजी तथा सरकारी विद्यालयों के लिए लागू होगा। ज्ञात हो कि स्कूल खोलने के क्रम में सबसे पहले 4 जनवरी को कक्षा 9 से 12 तक का वर्ग संचालन शुरू हुआ था इसके बाद 8 फरवरी को कक्षा 5 से 8 को भी वर्ग संचालन की अनुमति मिली थी । अब 1 मार्च से कक्षा 1 से 5 को भी अनुमति दे दी गई है ।

Also Read:  बिहार: 7 IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग, जाने किसे मिला पटना के नए ट्रैफिक एसपी का पदभार?

परिजनों के पास है अधिकार

हालांकि परिजनों को यह अधिकार है कि वह अपने बच्चे को स्कूल भेजना चाहते हैं या नहीं । अभिभावकों के सहमति पत्र के बाद ही स्कूल में प्रवेश की इजाजत होगी। स्कूल प्रशासन को किसी प्रकार का दबाव बनाने की इजाजत नहीं है । ये यह फैसला पूर्णता अभिभावक का होगा ।
सरकार के इस फैसले के बाद कोरोना महामारी तथा लॉक डाउन के बाद यह पहला मौका होगा जब कक्षा एक से बारहवीं तक का एक साथ वर्ग संचालन किया जाएगा । विद्यार्थी तथा अभिभावक लंबे समय से इस फैसले का इंतजार कर रहे थे ।

whatsapp channel

google news

 
Share on