Wednesday, February 8, 2023
spot_img

अनपढ़ कहे जाने पर भावुक हुई राबड़ी देवी, कही मेरे बाप- दादा ने मुझे ..

बिहार में नई सरकार का गठन हो गया है, बिहार में अभी विधान परिषद का सत्र से चल रहे हैं, इसी दौरान पहले सत्र का आखिरी दिन उस समय काफी हंगामा हो गया जब पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी नीतीश कुमार पर जमकर बरसने लगी। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने नीतीश कुमार से पूछा कि आखिर राज्यपाल के अभिभाषण मे 19 लाख नौकरियां देने की बात क्यों नहीं कही गई? चुनाव में तो आपने 19 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया था, फिर राज्यपाल के अभिभाषण में इसका जिक्र क्यों नहीं है। इसी बात को लेकर राबड़ी देवी नीतीश कुमार को घेरना शुरू कर दिया।

whatsapp

अनपढ़ कहने पर हुई भावुक

राबड़ी देवी ने आगे कहा कि बिहार में अभी रोजगार क्यों नहीं है, सरकार लोगों को सरकारी नौकरिया क्यों नहीं दे रही है, लालू राज को तो जंगलराज कहा जाता है, आज बताएं कि ऐसा क्यों हो रहा है, आपके शासन में ऐसा कौन है जिस पर कोई दाग नहीं लगा हुआ है! राबड़ी देवी के द्वारा सभी को दागी    बताए जाने पर विधान परिषद में काफी हंगामा होने लगा, भाजपा नेता और बिहार सरकार में मंत्री मंगल पांडे ने राबड़ी देवी के इस बयान का काफी विरोध किया। इसी हंगामे के बीच किसी ने राबड़ी देवी को अनपढ़ कह दिया, जिससे वह काफी भावुक हो गई।

अनपढ़ कहे जाने पर राबड़ी देवी ने कहा कि पहले के जमाने में स्कूल नहीं थी, इसलिए मैं नहीं पढ़ी, हमारे बाप-दादा ने हमें नहीं पढ़ाया या पढ़ा, इसमें मेरी क्या गलती रही। लालू यादव ने आवाज बुलंद की तो आज सभी लोग पढ़ रहे हैं। परंतु आज बिहार के लोग पढ़ लिख कर भी परेशान हैं, उन्हें ना ही तो रोजगार मिल रहा है ना ही सरकारी नौकरियां, पिछले 15 सालों से विकास के मात्र झूठे वादे ही किए जा रहे हैं।

राबड़ी देवी ने कहा कि हमारे 15 साल के शासनकाल को चलने नहीं दिया, लालू यादव को चारा घोटाले के तहत फंसा दिया गया, मैं पूछती हूं जब चारा घोटाला पहले से हो रहा था तो फिर इसकी जांच 1990 से क्यों की गई? आज भी आरजेडी बिहार की सबसे बड़ी पार्टी है, इतना ही नहीं कई सीटें साजिश के तहत हमारी पार्टी की हरा दी गई, नीतीश कुमार अगर अपने चेहरे पर चुनाव जीते तो उनको आज मात्र 42 सीटें क्यों है!

whatsapp-group

Stay Connected

267,512FansLike
1,200FollowersFollow
1,000FollowersFollow
https://news.google.com/publications/CAAqBwgKMIuXogswzqG6Aw?hl=hi&gl=IN&ceid=IN%3Ahi

Latest Articles