बीड़ी मजदूर मां को नहीं पता IAS क्या होता है? और बेटा 396वीं रैंक के साथ बन गया ऑफिसर

Seccess Story Of UPSC CSE 2022 Mangesh Khilari Sangamne: केंद्रीय लोकसेवा आयोग की परीक्षा के नतीजे फाइनली घोषित कर दिए गए हैं। इसके साथ ही यूपीएससी 2022 की परीक्षा में टॉप करने वाले छात्र-छात्राओं के नाम का ऐलान भी हो गया है। इस साल कुल 933 बच्चों ने यूपीएससी की परीक्षा में बाजी मारी है। ऐसे में आइए हम आपको इस साल की यूपीएससी की परीक्षा में बाजी मारने वाले सामान्य परिवारों के बच्चों में से एक ऐसे परीक्षार्थी के बारे में बताते हैं, जिनके माता-पिता को यह भी नहीं पता कि एक आईएएस अधिकारी क्या होता है…? और बेटे ने अपनी मेहनत के दम पर देश के सर्वोच्च सरकारी अधिकारी का पद भी हासिल कर लिया है।

बीड़ी मजदूर का बेटा बना आईएएस ऑफिसर

मंगेश खिलाड़ी अहमदाबाद के रहने वाले हैं। वह 23 साल के हैं और अहमदाबाद के सुकेवाडी गांव में अपने परिवार के साथ रहते हैं। मंगेश का परिवार आर्थिक रूप से बेहद कमजोर है। मंगेश के पिता चाय-बडा पाव की दुकान चलाते हैं और उनकी मां बीड़ी बनाने का काम करती है। मंगेश ने यूपीएससी की परीक्षा में 396वीं रैंक हासिल कर अपनी कामयाबी की कहानी अपनी मेहनत के दम पर लिखी है।

बेटे की कामयाबी से झूम उठा परिवार

मंगेश के पिता यूपीएससी की परीक्षा के बारे में कुछ हद तक जानते हैं, लेकिन उनकी मां को यह भी नहीं पता है कि एक आईएएस अधिकारी क्या होता है? ऐसे में बेटे की इस कामयाबी से परिवार में खुशी की लहर झूम उठी है। सुकेवाडी के रहने वाले मंगेश का नाम इस समय उनके जिले में गूंज रहा है। पिता की चाय की दुकान पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है।

Also Read:  डीजीपी साहब ने ऐसा क्या कहा कि को लोग सोशल मीडिया पर ठोक रहे हैं सलाम, जानें

मंगेश ने बताया कि उनकी इस कामयाबी से उनके माता-पिता बेहद खुश हैं। वह जानते हैं कि उनके माता-पिता ने अपने जीवन में बहुत लंबा संघर्ष किया है। ऐसे में उनकी यह कामयाबी उनके सिर्फ अकेले की नहीं है बल्कि उनके परिवार की जिन्होंने उनके इस सफर में उनका पूरा योगदान दिया है। बता दे मंगेश ने अपने जिले के ही स्कूल से शुरुआती पढ़ाई की है। इसके बाद ग्रेजुएशन की पढ़ाई के लिए वह पुणे चले गए थे, जहां एक छोटे से कमरे में कई लोगों के साथ रहते हुए उन्होंने अपने यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी थी और उसी मेहनत की देन है कि वह आज अपनी कामयाबी के इस मुकाम को छू पाए हैं।

whatsapp channel

google news