Thursday, December 7, 2023

Dev Dipawali 2023 : जानिए कब मनाई जाएगी देव दीपावली , जाने इसका शुभ मुहूर्त और महत्व

Dev Dipawali 2023 : दीपावली का त्योहार बेच चुका है लेकिन अभी लोग बेसब्री से देव दीपावली का इंतजार कर रहे हैं। कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को देव दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है और यह दिवाली के 15 दिन के बाद आती है। कार्तिक पूर्णिमा तिथि के प्रदोष काल में देव दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है। बता दे किस दिन बनारसी में गंगा नदी के घाट और मंदिरों में देव को जलाया जाता है।

कहा जाता है कि इस दिन स्वर्ग से सभी देवी देवता शिव नगरी काशी में आकर दिवाली मनाते हैं। ज्योतिषाचार्य चक्रपाणि भट्ट के अनुसार इस बार देव दीपावली में बहुत ही शुभ योग बन रहे हैं। तो आईए जानते हैं कब मनाई जाएगी देव दीपावली।

Dev Dipawali 2023 : जानिए कब मनाई जाएगी देव दीपावली

वैदिक पंचांग के अनुसार इस साल कार्तिक पूर्णिमा की तिथि 26 नवंबर रविवार को दोपहर 3:53 से लेकर 27 नवंबर सोमवार को 2:45 तक रहेगी। इस बार देव दीपावली कार्तिक पूर्णिमा तिथि में प्रदोष व्यापिनी मुहूर्त में मनाया जाएगा। रविवार 26 नवंबर को यह त्यौहार मनाया जाएगा और 27 नवंबर को स्नान दान करने के लिए शुभ मुहूर्त है।

 
whatsapp channel

जानिए कब है दीप जलाने का शुभ मुहूर्त

देव दीपावली 2023 में दीप जलाने का शुभ मुहूर्त इस बार शाम 5:08 से लेकर 7:45 तक है। बता दे की 2 घंटे 39 मिनट का शुभ समय आपको दीप जलाने के लिए प्राप्त हो रहा है। 27 नवंबर को 5:08 से प्रदोष काल प्रारंभ हो जाएगा।

इस बार देव दीपावली में बन रहे हैं तीन शुभ योग

इस बार देव दीपावली काफी ज्यादा शुभ है और इस दिन तीन शुभ योग भी बना रहे हैं। इस दिन रवि योग पारेख योग और शिवयोग बना रहे हैं। सुबह 6:52 से रवि योग का प्रारंभ होगा जो की दोपहर 2:05 तक चलेगा। वही परिग्योग देर रात 12:37 तक रहेगा और उसके बाद शिवयोग शुरू होगा जो की कार्तिक पूर्णिमा तक रहेगा।

google news

Also Read:Good News: बिहार के टीचरों की हुई बल्ले-बल्ले, CM नीतीश कुमार ने सैलरी के लिए जारी किये इतने करोड़; कब आयेगी सैलरी?

जानिए क्या होता है देव दीपावली का महत्व

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव ने असुर राज त्रिपुरा असुर का वध करके देवों को राक्षसों के आतंक से मुक्ति दिलाई थी। देवी देवताओं की शिव नगरी काशी में गंगा घाट के तट पर स्नान किया और दीप जलाया था और भगवान शिव की पूजा की थी। उसके बाद हर साल देव दीपावली का त्यौहार मनाया जाने लगा।

Jahnvi Mishra
Jahnvi Mishrahttp://biharivoice.com
मीडिया के क्षेत्र में 2 साल का अनुभव है। Jharkhad Kbhri न्यूज वेबसाइट से अपने करियर की शुरुआत की। कई अलग-अलग न्यूज वेबसाइट पर कंटेंट राइटर का काम किया। फिलहाल बिहार वॉइस के साथ ऑटो, स्पोर्ट्स, मनोरंजन की खबरों लिख रही हूं। मेरा उद्देश्य इस वेबसाइट के माध्यम से लोगों तक सही और सटीक खबरें पहुंचना है।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles